NHPC Blog

अंक की तस्वीर : 21

 मालागिर / नारंगी कस्तुरा मालागिर / नारंगी कस्तुरा (Geokichla citrina) ) थ्रश परिवार का एक पक्षी है।यह सामान्यता भारतीय उपमहाद्वीप और दक्षिण पूर्व एशिया के घने जंगली इलाकों में पाया जाता है। यह प्रजाति छायादार नम क्षेत्रों को प्राथमिकता देती है ।यह पक्षी सर्वाहारी होता है जो  कई प्रकार के कीड़े, केंचुए और फल खाता है। यह पेड़ों पर घोंसला बनाता है लेकिन झुंड नहीं बनाता। इसके नर का ऊपरी हिस्सा एक समान भूरे रंग का होता है और सिर और नीचे का हिस्सा नारंगी रंग का होता है। मादा और युवा पक्षियों का ऊपरी भाग भूरा होता है। यह तस्वीर तीस्ता V पावर स्टेशन परिसर में खींची गई है ।   अजय कुमार झा  वरिष्ठ प्रबंधक (पर्यावरण) निगम मुख्यालय    

Category:  Environment


 |    September 22, 2023

मिथुन – अरुणाचल प्रदेश और नागालैंड का राजकीय पशु

Picture source= https://www.researchgate.net/figure/A-female-Mithun-Bos-frontalis-in-her-natural-habitat_fig2_345850491     गेयल (बोस फ्रंटलिस - Bos frontalis) जिसे मिथुन या ड्रंग ऑक्स के नाम से भी जाना जाता है, नागालैंड और अरुणाचल प्रदेश का राज्य पशु है। यह बोविडी परिवार से संबंधित एक लुप्तप्राय जुगाली करने वाली प्रजाति (ruminant species) है, जो पूर्वी हिमालय में पाया जाता है। इसे 'हाईलैंड्स का जहाज' और 'पहाड़ों के मवेशी' के रूप में भी जाना जाता है। असमिया में, मिथुन को 'मेथन' कहा जाता है, इसे अरुणाचल प्रदेश में 'एसो' या 'होहो' या 'सेबे' कहा जाता है, मिज़ोरम में इसे 'सियाल' कहते हैं ।यह मणिपुर में 'सैंडंग' या 'वी' तथा मणिपुर की नागा जनजातियों के बीच 'सीज़ंग' के नाम से प्रचलित है। मिथुन पालन एक महत्वपूर्ण परंपरा है जो उत्तर-पूर्व भारत में स्थायी आजीविका से जुड़ी हुई है।   मिथुन की उत्पत्ति ऐसा माना जाता है कि इसकी उत्पत्ति 8000 साल से भी पहले हुई है। मिथुन को नागा जनजातियों के ‘Ceremonial Ox’ के रूप में वर्णित किया गया है और भारत-म्यांमार सीमा को मिथुन की उत्पत्ति का स्थान बताया गया है। इसकी उत्पत्ति जंगली गौर (बॉस गौरस) या भारतीय बाइसन के प्रत्यक्ष पालतू जानवरों से भी मानी जाती है।   भारत में मिथुन की संख्या पशुधन गणना, 2019 के ...

Category:  Environment


 |    September 22, 2023

LiFE- Lifestyle for Environment

Picture source = https://www.thelancet.com/journals/lansea/article/PIIS2772-3682%2823%2900098-7/fulltext   India has always inspired the world on environmental protection and now is the time India leads the world by example and conserves our environment. India’s per capita carbon footprint is significantly lower than world average because lifestyle is still rooted in sustainable traditional practices.   Ever noticed why you feel rejuvenated when you inhale fresh clean breeze of air with no pollutants? There is a great sense of belongingness and an invisible connection towards mother Earth while doing so. Breathing unpolluted air has become a rare phenomenon in a city like Delhi and it is spreading fast to other cities as well. This time (winter months of year 2022), Bombay and Bangalore too witnessed very poor levels of Air Quality Index. Air pollution alone is reducing solar power generation by 29%. Himalayan ice sheets have shrunk and there is a global sea level rise prediction between 2-6 feet by year 2100. Reasons can be attributed towards a cumulative effect of all environment damaging activities we do on day to day basis. The sad part is we acknowledge the facts that our habits have degraded the planet to an extent that it is time to act ...

Category:  Environment


 |    September 22, 2023

ENERGY TRANSITION IN INDIA

Picture source = https://vajiramias.com/current-affairs/global-energy-transition-index/5c99d4491d5def13690f1126/     India’s energy transition phase started in the early 1980s when it set up a dedicated governing body for non-conventional energy matters, called the Ministry of New and Renewable Energy (MNRE), the first country to do so in the world. In 1986, India set up its first wind power plants in Maharashtra, Gujarat and Tamil Nadu and has reached total wind power installed capacity of about 13 GW by 2010. In 2009, India had set up its first solar power plant in Punjab with a capacity of 02 MW. Since then, India has been working toward increasing its dependency on non-conventional renewable and non-emission energy sources.   Contribution of India to clean energy   India has installed electricity capacity of 172.72 GW from non-fossil fuels sources as on 31.10.2022. In fact, India's new draft National Electricity Plan 2022 sees about 18GW reduction in coal capacity by 2030 when compared to the Optimal Generation Capacity Mix report released in 2020.   India is one of the largest energy consumers and the third-largest renewable energy producer in the world. To strengthen its energy transition, the Government has implemented several policies and schemes to encourage manufacturing and research in ...

Category:  Environment


 |    September 22, 2023

किसिंग गौरामी : एक्वेरियम परिदृश्य

Picture source =https://aquariumfishonline.com.au/product/pink-kissing-gourami-helostoma-temminkii-7cm/   किसिंग गौरामी (Helostoma temminkii), जिसे किसिंग फिश या किसर के रूप में भी जाना जाता है, हेलोस्टोमैटिडी (Helostomatidae ) परिवार की मध्यम आकार की उष्णकटिबंधीय क्षेत्र व मीठे पानी में पाये जानी मछली है। इस मछली का उद्गम स्थल थाईलैंड से लेकर इंडोनेशिया तक है। वैसे तो यह सजावटी मछली के तौर पर सर्वत्र प्रसिद्ध है, लेकिन इन मछलियों के मूल देशों (दक्षिण पूर्व एशिया) में ये खाद्य मछली के रूप में भी प्रचलित हैं, क्यूंकी वहाँ इनकी खेती फार्म स्तर पर की जाती है। दक्षिण पूर्व एशियाई देशों में इन मछलियों को स्टीमिंग, बेकिंग, ब्रोइलिंग और पैन फ्राइंग के उद्देश्य से ताजा उपयोग में लाया जाता है।   किसिंग गौरामी मछली का सबसे विशिष्ट भाग इसका मुंह होता है, क्यूंकी इसके मुंह की बनावट की वजह से ही यह बाकी मछलियों से भिन्न होती है। इसी विशेषता के कारण इनका अनोखा नामकरण प्रतीत होता है। इन मछलियों में किसी भी प्रकार की बाहरी यौन द्विरूपता नहीं होती, इसलिए इनके लिंगों में बाह्य तरीके से अंतर कर पाना सरल कार्य नहीं होता। यह मछली अन्य मछलियों, पौधों और आस-पास के वस्तुओं पर अपनी अजीबो-गरीब "किसिंग" व्यवहार के कारण जलशालाविद के बीच काफी लोकप्रिय है। नर एवं ...

Category:  Environment


 |    September 22, 2023

SUSTAINABLE DEVELOPMENT GOALS

Picture Source = https://education.nationalgeographic.org/resource/sustainable-development-goals/   The Sustainable Development Goals (SDGs) are the shared blueprint to achieve a better and more sustainable future for all. They address the global challenges faced which include poverty, inequality, climate change, environmental degradation, peace and justice. The SDGs aim to transform our world. The 17 Goals were adopted by all United Nations Member States in September 2015 as part of the 2030 Agenda for Sustainable Development and sets out a 15-year plan to achieve the Goals and their related targets. The 17 Goals are interconnected, apply to all countries, and need to be carried out by all stakeholders – governments, private sector, civil society, the United Nations and others, in a collaborative partnership. The 17 Sustainable Development Goals in brief are as under:​   SDG-1: No Poverty:  To ensure that all men and women, in particular the poor and the vulnerable, have equal rights to use economic resources, as well as to access basic services, ownership and control over land and other forms of property, inheritance, natural resources, appropriate new technology and financial services.   SDG-2: Zero Hunger: To ensure sustainable food production systems and implement resilient agricultural practices that increase productivity and production, that help ...

Category:  Environment


 |    September 22, 2023

नागफनी

Picture source = https://www.plantaeparadise.com/Echinopsis-hybrid-p543258858   (बतकही/ प्रसंग)   फूलों की दुकान का मुआयना करती रूतु की सरसरी नजरें कंटीली नागफनी की खूबसूरती पर जा कर अटक गईं और अब नागफनी का वो नन्हा पौधा उसके शयनकक्ष की सजीवता को बढ़ा रहा था। वस्तुतः रूतु गई तो थी फूल के पौधे लेने पर उसने कंटीली नागफनी में ज्यादा अपनापन पाया। रूतु को नागफनी अपनी फ़ितरत से मिलती-जुलती सी लगी तो उसे संग ले आई। लंबे अरसे से सिरहाने पड़ा खाली तिपाया उसे कचोट रहा था। वैसे भी कहने वाले से ज्यादा उसे सुनने वाले की जरूरत थी - एक मौन श्रोता !   नागफनी (कैक्टस) को सामान्यतः घर के अंदर क्या, घर के आस-पास भी देखना पसंद नहीं किया जाता है, पर  "रूतु" उसे अपने घर के अंदर ही नहीं बल्कि अपने शयनकक्ष में रखने के लिए खरीद लाई थी। "नागफनी" - खाद/पानी व देखभाल के बिना भी जीवित रहने की कूवत रखती है। अपनी जिजीविषा को खुद में समेटे, संरक्षित किए - काफी हद तक आत्मनिर्भर ! कांटों के खूबसूरत लिबास में इठलाती हुई,  और ... कांटे भी तेज़, धारदार, नुकीले और तीखे।   वास्तव में ये कांटे नागफनी की पत्तियां हैं, जो कि कांटों में तब्दील हो गई हैं - ...

Category:  Environment


 |    September 22, 2023

Business Responsibility and Sustainability Reporting (BRSR): a way to achieve Sustainable Development Goals

"Transforming our world: the 2030 Agenda for Sustainable Development" comprising of 17 Sustainable Development Goals (SDGs) was adopted by 193 countries of the UN General Assembly at the Sustainable Development Summit in September 2015. SDGs include important elements like ‘no poverty”, ‘zero hunger’, ‘quality education’, ‘clean energy’ etc. India along with other countries signed the declaration on the 2030 Agenda and the NITI Ayog, the apex body of GOI in co-ordination with State Governments is making all out efforts to achieve the targets under the SDGs. Given the diverse socio-economic scenario of India, holistic achievement of SDGs will require collective efforts and active participation of all business sectors in the country.  The step taken by SEBI for mandatory non-financial disclosure by listed company (ies) in BRSR format w.e.f. FY 2022-23 is a significant step for sustainable business practices. The BRSR format has been designed as per National Guidelines on Responsible Business Conduct (NGRBC-2019) which has nine principles (P1 to P9) aligning business module to incorporate all the 17 SDGs.  It is envisaged that such business modules aligned with SDGs will go a long way in transforming the economic development processes in India. The mandatory disclosure will enable companies to review ...

Category:  Environment


 |    January 27, 2023

Unable to load Tweets



Posts By Years